चिट्ठाजगत www.hamarivani.com

शनिवार, 16 मई 2020

हाइकु !

हाइकु

ये धरा हिली 
वो महसूस किया
हिला ये जिया।
***
भय में जीना
मरने से बुरा है
दण्ड निरा है।
***
जीवन अब 
अनुशासित जीना
नहीं है खोना।
***
विश्व आ रहा
अब पीछे हमारे
वेदों के द्वारे।
***
कोरोना क्या है?
प्रकृति की सज़ा है
एक रज़ा है ।
***


10 टिप्‍पणियां:

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

सामयिक हाइकु। अच्छी रचना।

Sarita Sail ने कहा…

बढ़िया

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

वाह

अजय कुमार झा ने कहा…

सामयिक और सटीक | कितनी कमाल की शैली और विधा है ये दीदी |

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

आते रहे।

संगीता पुरी ने कहा…

सटीक लिखा है ----

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

सामयिक और सुन्दर हाइकु

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

वाह!

priyadarshini ने कहा…

वाह दीदी ! कितना अच्छा लिखा है। मैंने जैसे ही पढा तुरंत दोनों बच्चो को सुनाया। इस शैली में लिखने की मुझे आपसेट्रेनिंग लेनी है।

Daisy ने कहा…

Best Valentines Day Roses Online
Best Valentines Day Gifts Online
Send Teddy Day Gifts Online