चिट्ठाजगत www.hamarivani.com

शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2020

दीवार !

 दीवारें

खड़ी होती है ,

टूटती रहती हैं,

चाहे जितनी ऊँची क्यों न हो ?

जो बनी है वो नष्ट होगी ।

नाशवान तो मानव भी है ,

फिर भी 

मुट्ठी जैसे दिल में 

अगर खिंच जाती है दीवार तो

उस दिल से भी छोटी दीवार

बिना ईंट गारे के

अभेद्य, अटूट और अक्षुण्य होती है ।

तब दिल, दिमाग और जिस्म भी

शिला हो जाते है ।

किसी कर्म के अभिशाप से ,

यही कटु यथार्थ समझो ।

4 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना।

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर

Daisy ने कहा…

Send Valentines Day Roses Online
Send Valentines Day Gifts Online
Send Teddy Day Gifts Online

Ankityadav ने कहा…

आपने बहुत अच्छी पोस्ट लिखी है. ऐसे ही आप अपनी कलम को चलाते रहे. Ankit Badigar की तरफ से धन्यवाद.