रविवार, 11 जुलाई 2010

कैसे बचाएं बेटी तुम्हें!

कहाँ से लायें हम
संगीनों के साए
जिनके तले
महफूज़ रखें
अपनी बेटियों को.
पहले तो जन्म से पहले ही
घर वालों की नज़रों से दूर
कोख में पालना दूभर
हाँ अभी भी
हम वहीं हैं
बेटे की कामना में
बलि देने को तैयार
जैसे खाने दाँत और
दिखाने के कुछ और.
फिर जन्म ले लिया 
तो उसके बचपन में भी
प्यासी हैवान आँखें
आस पास मंडराती हैं.
गर पा गए तो
क्षत विक्षत कर दिया
फिर भी मन न माना तो
मौत की नींद सुला दिया.
इन घिनौने चेहरे पर
अपनों के भी नाम लिखे हैं
चाहे जैसे सही
गर्भ में मारा
जन्मते मारा
बच्ची में औरत की तलाश में मारा
या फिर
अपनी शान में मारा.
हत्यारे में वे भी शामिल हैं
जिनको  तोतली बोली में
रिश्तों का नाम देती थी
या देनेवाली थी
पर
वह लड़की थी
जीवन उसको  नसीब न था
भ्रूण ,बच्ची या युवा
बेटी बचाई तो
बहू को डस लिया
आखिर खा ही जाते हैं
वे जो बहुत अपने होते हैं.

9 टिप्‍पणियां:

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत सुन्दर और मार्मिक कविता है दी. लड़कियों की यह त्रासदी कब खत्म होगी, पता नहीं.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत ही मार्मिक लगी आप की यह कविता, अगर मेरा बस चले तो मै ऎसा कर्म करने वालो को चोराहे पर खडा कर के गोली से सिर्फ़ हाथ पांव ऊडा दुं, ताकि इन्हे देख कर बाकी लोग सबक ले सके

निर्मला कपिला ने कहा…

हाँ सही बात है लडकियाँ कहीं भी महफूज़ नहीं आखिर कब तक किस किस से इन्हें बचाये कोई? बहुत अच्छी मार्मिक रचना है। शुभकामनायें

राजेश उत्‍साही ने कहा…

रेखा जी, इस विषय को अपनी कविता का आधार बनाने के‍ लिए शुक्रिया। अन्‍यथा न लें पर मुझे लगता है कि आपकी कविताओं में इस विषय दुहराव बहुत अधिक हो रहा है । दोहराव में भी कोई समस्‍या नहीं पर बात फिर कुछ अलग ढंग से आनी चाहिए। आशा है आप इस पर विचार करेंगी। शुभकामनाएं।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Maarmik ... aisa karne waalon ko maar dena chaahiye .. jeene ke kaabil nahi hain ye log ...

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

rajesh jee,

ho sakta hai ki duhrav ho raha ho lekin pata nahin kyon roj aisi ghatnayon par kalam kuchh na kuchh rach jati hai age khyaal rakhoongi.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

dil ko chhuti rachna

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुन्दर और मार्मिक कविता है