गुरुवार, 5 जुलाई 2012

हाइकू !

मंजिलें दिखी
आग का  दरिया है
आ  पार करें।
***********
 देश के नेता
बरसाती  मेंढक 
बराबर हैं .
***********
सफेद कुर्ता
राजनैतिक वेश
 काला अतीत  .
**********
युवा चेहरे
कसकर पकड़ो
बागी बना दो .
********
देश का मंत्र
अतिथि देवो भाव
आतंकी .बनो .
**********
फांसी  उन्हें दो
जो बेगुनाह हैं
वे अतिथि हैं।
*********
आशा की ज्योति
जो मन में जली है
 जलती रहे।
*********
 हवा के झोंके
 थक के  हार  गए
 अखंड लौ से .
*********
 ऑनर कहाँ
 किलिंग तो जुर्म है
  खोया भी है।
**********
सोच  हमारी 
कभी  बदलेगी  भी
बेटी - बेटे की ।
*********



4 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन हाईकु...उत्तम संदेश...काश!! बेटा बेटी वाली सोच बदल पाती...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुंदर .... हर हाइकु गहन अर्थ लिए हुये ...

वन्दना ने कहा…

सुन्दर संदेश देते शानदार हाइकू।

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

उम्दा ...और सटीक हाइकू