मंगलवार, 7 जून 2011

गैर जिम्मेदार !

मंत्रीजी से मिलने
चार बंगले वाले पहुंचे
लगे सवाल करने
मेन रोड कब बनेगी?
गाड़ी फँस जाती है गड्ढों में
धूल के गुबारों से
निकलना मुश्किल है,
गलियां जो जुड़ रही है उनसे
सब पक्की हो चुकी है
ये क्या तमाशा है?
मंत्रीजी ने
पान मसाले को निगलते हुए
अंगुली उठाकर
उनसे कहा -
आप बड़े बंगले वाले
मेन रोड पर - बंगले हैं,
पूरी सड़क पड़ी है
आधे में उजड़ा पार्क
और
सामुदायिक केंद्र बना है
वोट क्या खाक मिलेंगे?
गलियों में लोग
एक घर में
१०-१० रहते हैं,
उन्हें सुविधा देंगे
नाम लेंगे,
बदले में मेरी सीट पक्की
बंगले वाले तो वोट भी नहीं देते
गालियाँ देते हैं
सो मेन रोड नहीं
उसके किनारे लगे
पत्थर देखिये
जिनपर लिखा मेरा नाम
तुम्हें गैर जिम्मेदार ठहरा रहा है

4 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

रचना में आपने बहुत सटीक चित्रण किया है वर्तमान व्यवस्था का!

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सटीक टिप्पणी...बिना वोट के लालच के नेता क्यों कोई काम करेंगे...वे वहां समाज सेवा के लिये तो नहीं बैठे..बहुत सार्थक प्रस्तुति..

Patali-The-Village ने कहा…

वर्तमान व्यवस्था का बहुत सटीक चित्रण| बहुत सार्थक प्रस्तुति|

वन्दना ने कहा…

करारा प्रहार्।