सोमवार, 6 जून 2011

लोकतंत्र की हत्या!

हम कहते हैं
देश में लोकतंत्र की
हत्या हो चुकी है,
क्यों हो?
सत्ता का मद
बहुत गहरा होता है
उसके लिए कुछ भी करेंगे,
जहाँ चुनावी सरगर्मी में
लोक के भूखे पेट की आग पर
राजनीति का तवा चढ़ा कर
वोटों की रोटियां सेकी जाती हैं
पेट तो सिर्फ भूख जानता है,
वे रोटियां कैसे सिकीं
इससे नहीं मतलब
मतलब तो इससे है कि
वे रोटियां मिली
और पेट की अग्नि बुझी,
फिर जिसने जो कहा
कर दिया
फिर क्या लोकतंत्र और क्या राजतन्त्र
उन्हें रोटियां चाहिए
रोटियां देने वाले शैतान भी
उन्हें देवता नजर आते हैं,
कल नहीं आज की
उदराग्नि बुझाने वाले
भगवान समझे जाते हैं,
भले भी वे कुत्ते समझ कर
टुकड़े डाल दें
और उनके कल पर काबिज हो जाएँ
देखा नहीं
भूख से बिलबिलाते जन को
पैसे दिखाई देते हैं
चाहे जुलूस में ले जाएँ
या फिर
जिंदाबाद ही तो कहना है
फिर पेट भर खाने की
तृप्ति उन्हें बिकाऊ बना देती है
अब लोक कहाँ और तंत्र कहाँ?

6 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

समसामयिक अच्छी रचना ..आज सच ही लोक तंत्र कहाँ बचा है ..

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सटीक टिप्पणी...अब लोक तंत्र कहाँ है, केवल तंत्र बचा है जो कुचल रहा है लोक को...सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति..

Udan Tashtari ने कहा…

लोकतंत्र के हालात चिन्तनीय हैं...आपकी रचना सामयिक...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

हालात को लेकर लिखी गई बढ़िया रचना!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


आज के खास चिट्ठे ...

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

बहुत सही कहा आपने... यही स्तिथि है... चाटुकार तंत्र के अंधे हो गए ..लोकतंत्र की मौत हो गयी है .. बस नाम को लोकतंत्र है...