रविवार, 25 अगस्त 2013

हाइकू !

 रोज पढ़ती हूँ कि मौत ने घर चिराग बुझा दिया , कोई लहरों में समां गया , कितनों की मांग सूनी हो गयी , असाध्य रोग से परेशान ने मौत को गले लगाया . किसी ट्रक ने किसी को कुचल कर बच्चों के मुंह से निवाला  छीन लिया और न जाने क्या क्या ? बस ये शब्द ऐसे परिभाषित हो उठा और  हाइकू के रूप में ---

मौत 
------

मौत किसी की 
बरबादी होती है 
एक घर की। 
*******
मौत होती है 
किसी सुहागन की 
उजड़ी मांग। 
*******
इसके आते 
मुक्ति होगी कष्टों से 
राहत देगी। 
*******
उसकी मौत 
किसी को बोझ से ही 
मुक्ति मिलेगी। 
*******
अकाल मृत्यु 
भटकती आत्मा का 
वनवास है। 
******
महलों में से 
सड़क पर आते 
ऐसे भी देखा। 
*******
कुछ मुस्कराए 
कुछ ने आंसू गिराये 
वह तो गया। 
*******
श्मशान में ही
विरक्ति बसती है 
जीते सभी है। 
********
मौत तो है ही 
जिन्दगी की मंजिल 
पाना है इति। 
*******

5 टिप्‍पणियां:

sushma 'आहुति' ने कहा…

खुबसूरत अभिवयक्ति..

रविकर ने कहा…

सुन्दर हाइकू
आभार आदरेया-

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
साझा करने के लिए धन्यवाद।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मौत सत्य है , सब प्रारब्द्ध ही है , फिर क्यों डरें ?

गहन हाइकु ।

निहार रंजन ने कहा…

गहरी रचना.