सोमवार, 3 दिसंबर 2012

हाईकू !

ज्ञानशून्य है 
आरक्षण की माया 
खुद देख लें।
********
अब मिलती 
मानवता धरा पे 
दम तोड़ती .
********
आरक्षण दे 
संविधान है पंगु 
वे शक्तिमान .
*******
कुछ यथार्थ 
इतने कटु होंगे 
फंसे गले में 
*******
ये बचपन 
रस्सियों के सहारे 
झूल रहा है .
*******
पेट के लिए 
गिरवी बचपन  
भूखा सो गया . 
********
भीख माँगते 
बाप बेटे बेटियां 
धंधा जो है न 
*******

4 टिप्‍पणियां:

vandana gupta ने कहा…

बढिया हाइकू

सदा ने कहा…

ये बचपन
रस्सियों के सहारे
झूल रहा है .
*******
पेट के लिए
गिरवी बचपन
भूखा सो गया .
वाह ... बहुत खूब सभी हाइकू एक से बढ़कर एक

सादर

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत बढ़िया ....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत बढ़िया ....