सोमवार, 9 जनवरी 2012

तन्हां नहीं होता!

जो जीता किताबों में

वो कभी तन्हा नहीं होता।

किताबों की इबारत

होती है जुबान पर,

किरदारों में खोजते हें खुद को,

फिर करके मंथन

ऐसा नहीं ऐसा?

खुद ही देते हें दिशाएं,

लिखने पर किसी के

प्रश्न उठाते हें,

और फिर

खुद भी उत्तर भी सुझा देते हें।

तौलते हैं तराजू में

कीमत आँका करते हें।

खुद ही देकर

उन्हें कीमत खरीदा और बेचा करते हें।

जीते हें उन्हीं किरदारों में

उनके जुमले बदला करते हें।

कितने संवाद लिखते और मिटाते रहते हैं

किताबों में जो जीते हैं

वो कभी तन्हा नहीं होते हैं।

14 टिप्‍पणियां:

सदा ने कहा…

किताबों में जो जीते हैं
वो कभी तन्हा नहीं होते हैं।
अक्षरश: सही कहा है...बहुत ही बढि़या प्रस्‍तुति ।

वन्दना ने कहा…

वाह कितनी सुन्दर और सटीक बात कही है।

ajit gupta ने कहा…

सही है जो किताबों के साथ है मानो स्‍वयं के साथ है। बढिया रचना।

anju(anu) choudhary ने कहा…

किताबो का साथ ही सच्चा साथ साबित होता है ..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत उम्दा और सटीक!
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

किताबों में शब्द नहीं , जीवन के हर रास्ते होते हैं और कई भावनाएं - तन्हा कैसे होगा कोई

नीरज गोस्वामी ने कहा…

एक दम सौ प्रतिशत सच्ची बात...इस रचना के लिए बधाई रेखा जी.

नीरज

Kailash Sharma ने कहा…

किताबों में जो जीते हैं

वो कभी तन्हा नहीं होते हैं।

....बिलकुल सच कहा है..किताब जैसा साथी जब पास हो तो कोई कैसे तन्हां रह सकता है...बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

sushma 'आहुति' ने कहा…

किताबों में जो जीते हैं

वो कभी तन्हा नहीं होते हैं।...निसंदेह ..... बिलकुल सच्ची बात.....

Pallavi ने कहा…

एक दम सही कहा आपने जो किताबों में जीते हैं वो कभी तन्हा नहीं होते है बचपन में भी सभी से यही सुना था किताबों से अच्छा और कोई दोस्त नहीं होता सार्थक प्रस्तुति ....समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

Reena Maurya ने कहा…

सही बात है किताबे है हमारी सच्ची मित्र होती है...
सटीक और सुंदर लेखन...

रेखा ने कहा…

सही है ...किताबों में जीने वाले तन्हां नहीं हो सकते .

मनोज कुमार ने कहा…

किताबों की बात हमेशा सुंदर ही होती है।

P.N. Subramanian ने कहा…

किताबों की उपादेयता पर सुन्दर रचना. अब की पीढ़ी तो उनसे मुह मोडती दिख रही है.