मंगलवार, 1 फ़रवरी 2011

क्या कर रहे हैं आप?

बहुत आसान है कीचड़ औरों पर उछालना,
छींटे से अपने दामन को क्यों रंग  रहे हैं आप?

इंसानियत नहीं है  तोहमत लगाना किसी पर,
बेकुसूर इस तरह से  भी कब बन  रहे है आप? 

वे गुनाह किये हैं ये किस्मत की बात थी,
गुनाहगार बताकर ये क्या कर रहे हैं आप?

अंगुली तो उठी है बेकुसूरों पर भी,
अपनी तरफ अंगुलियाँ क्यों उठा  रहे हैं आप?

बहुत गम है दुनियाँ में रोने के लिए,
दूसरों को ग़मगीन  क्यों बना रहे हैं आप ?

लफ्जों के तीर जहरीले बहुत होते हैं,
दूसरों को घायल उनसे क्यों कर रहे हैं आप? 

9 टिप्‍पणियां:

ashish ने कहा…

सुन्दर एवं सार्थक भाव लिए कविता .

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छे भाव लिए नज़्म को प्रस्तुत करने के लिए आभार।

संजय भास्कर ने कहा…

..बहुत बढ़िया कही आपने....सुंदर रचना

निर्मला कपिला ने कहा…

अंगुली तो उठी है बेकुसूरों पर भी,
अपनी तरफ अंगुलियाँ क्यों उठा रहे हैं आप?


अगर किसी पर उँगली उठायें तो चार अपनी तरफ ही उठती हैं अच्छी लगी रचना बधाई।

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

iss kyon ka jabab nahi hai di..?
ham bhi sochte hain, even khud ke liye bhi...lekin khud tak ko badal nahi paye..!

achchhi rachna

सुनील गज्जाणी ने कहा…

अंगुली तो उठी है बेकुसूरों पर भी,
अपनी तरफ अंगुलियाँ क्यों उठा रहे हैं आप?
अपनी और तो सवतः ही उंगली उठ जाती है , जाने दूसरो में क्या खामी खोजते है हम ,
सुदर !
साधुवाद !

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत गम है दुनियाँ में रोने के लिए,
दूसरों को ग़मगीन क्यों बना रहे हैं आप ..

सच है किसी दूसरे को गम नही देना चाहिए ... खुशियाँ बाँटनी चाहिए ,,,
सुंदर भाव हैं ...

हल्ला बोल ने कहा…

यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये... ध्यान रखें धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले दूर ही रहे,
अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
हल्ला बोल

हल्ला बोल ने कहा…

यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये... ध्यान रखें धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले दूर ही रहे,
अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
हल्ला बोल