मंगलवार, 14 अक्तूबर 2008

बेचारी

वह बेचारी
आंसुओं के सैलाब्में
उम्र भर
डूबती-तिरती रही
साँस मिलती रही
जीने के लिए जरूरी थी।
खोजती रही
किनारा
जहाँ सुस्ता ले जी भर
रह-रह कर वही त्रासदी
पीछे लगी रहती है
वह भी
सिसक सिसक कर
जीती मरती रहती है।
अचानक एक दिन
किनारे लग गई
छोड़ दिया उसने
सब कुछ बीच में ही
पर यह क्या,
किनारे आकर उसने
तोड़ दिया दम
सैलाब से बाहर
जीना उसे आता ही कहाँ था,
प्यासी मछली सा जीवन वहाँ था
सो चल दी
पूरी दुनिया को
अलविदा करके.

11 टिप्‍पणियां:

neeshoo ने कहा…

रेखा जी बहुत सुन्दर लिखा । धन्यवाद

ajay kumar jha ने कहा…

rekhaa jee,
lagtaa hai nari man kaa sara dard udel diya apne . bahut badhiyaa likhaa apne.

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने कहा…

मार्मिक कविता...।
सोचता हूँ:( क्या कभी हमें किसी प्रसन्न और सुखी नारी के बारे में कोई कविता पढ़ने -सुनने को मिलेगी? ...या यह जीवन यूँ ही निकल जाएगा।

Deepak Sharma ने कहा…

Jis raah par har baar mujhe apna hi koi ghalta raha,
phir bhi naa jaane kiyon us raah hi chalta raha.
Socha bahut is baar to rooshni nahi dhuyan doonga,
Lekin chiragh tha phitaratan jalta raha,jalta raha.

AAP KA SWAGAT HAI..........
KAVI DEEPAK SHARMA
http://www.kavideepaksharma.blogspot.com
http://shauardeepaksharma.blogspot.com
http://www.kavideepaksharma.co.in

श्यामल सुमन ने कहा…

रेखा जी,

भावपूर्ण रचना। सुन्दर।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
www.manoramsuman. blogspot. com

प्रदीप मानोरिया ने कहा…

बहुत सुंदर आपका चिठ्ठा जगत में स्वागत है . मेरे ब्लॉग पर दस्तक देकर देखें अन्दर कैसे व्यंग और गीत रखे हैं

Rekha Srivastava ने कहा…

siddharth shankar ji,

jivan ki yah trasdi hai ki nari aur poorn sukhi aisa ho hi nahin sakata hai. kis drishti se dekhenge - mansik sukh shanti hi sarvopari hai. jab vah sab taraph se sukhi hoti hai to doosaron ke liye kashtkari banane lagati hai.

jayaka ने कहा…

Ek bhaavpoorna rachanaa!

Amit K. Sagar ने कहा…

क्या बात है!. इक मर्म स्पर्शी रचना. बहुत सुंदर.

रोशन प्रेमयोगी ने कहा…

hindi seva ke bajai behater rachanayen likhiye. naye-naye shabd science adi ke talashiye. hindi ko seva nahi behater sahitya ki jaroorat hai.
-roshan premyogi
roshan.premyogi@yahoo.com

"VISHAL" ने कहा…

ek marmik rachana, khoobsoorat rachana,

किनारे आकर उसने
तोड़ दिया दम
सैलाब से बाहर
जीना उसे आता ही कहाँ था,


--------------------------Vishal