बुधवार, 13 फ़रवरी 2013

हाईकू !

खौफ से भरी 
डबडबाई आँखें 
न बोलें कुछ।
******
मासूम बच्ची 
लाश बना दी गयी 
प्रश्न शेष हैं।
*******
क़ानून तो हैं 
किताबों में रहेंगे 
न्याय न मिला।
******
मत दीजिये 
हक मेरे मुझको 
खुद ले लूंगी।
*******
दौलत रहे 
बेटों को मुबारक 
प्यार हमें दें।
******
तुम याचक 
दाता तो मैं रहूंगी 
जन्म जो दिया .
********
क्षितिज पार 
गया है क्या कोई भी 
कल्पना ही है। 
******
कविता नहीं 
ये दर्द ही  है मेरा 
उबल पड़ा 
*******
कलम थमी 
इबारत न सही 
स्याही बहेगी।
*******

14 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

क़ानून तो हैं
किताबों में रहेंगे
न्याय न मिला...

सच को लिखा है .... सभी हाइकू शशक्त ...

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही सार्थक हाइकू,शब्द कम भाव ज्यादा,अतिसुन्दर।

Rajesh Kumari ने कहा…

सभी हाइकु दिल को छू गए रेखा जी हार्दिक शुभ कामनाये

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सभी हाइकु मन को छू लेने वाले ...

Sadhana Vaid ने कहा…

क़ानून तो हैं
किताबों में रहेंगे
न्याय न मिला।
बहुत बढ़िया रेखा जी ! सभी हाइकू सही निशाने पर लगते हैं ! शुभकामनाएं !

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

गिने-चुने शब्द
अबाध अर्थ संचार
क्षमता अपार .

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 14-02 -2013 को यहाँ भी है

....
आज की नयी पुरानी हलचल में ..... मर जाना , पर इश्क़ ज़रूर करना ...
संगीता स्वरूप

.

Rajendra Kumar ने कहा…

मेरे ब्लोग्स संकलक (ब्लॉग कलश) पर आपका स्वागत है,आपका परामर्श चाहिए.
"ब्लॉग कलश"

सुनील गज्जाणी ने कहा…

behad sunder , badhai
saadar

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

खूबसूरत हाइकु ...सार्थक

expression ने कहा…

बहुत सुन्दर...
मन को छूते हुए भाव...

सादर
अनु

Anita (अनिता) ने कहा…

बहुत भावपूर्ण हाईकु ...दिल को छू गये...
~सादर!!!

Anita (अनिता) ने कहा…

बहुत भावपूर्ण हाईकु ...दिल को छू गये...
~सादर!!!

Dr. sandhya tiwari ने कहा…

सभी हाइकु मन को छू गए............