मंगलवार, 8 जनवरी 2013

रक्तबीज और महाकाली !



मैं  "दामिनी "
तुम्हें चुनौती देती हूँ ,
मैंने अपना बलिदान दिया
या फिर तुमने
मुझे मौत के हवाले किया हो ,
तब भी मैं
अब हर उस दिल में
जिन्दा रहूंगी,
एक आग बनकर ,
जब तक कि 
इन नराधम , अमानुषों को
उनके हश्र तक न पहुंचा दूं।
सिर्फ वही क्यों?
उस दिन के बाद से
मेरी बलि के बाद भी
अब तक उन जैसे
सैकड़ों दुहरा रहे हैं इतिहास ,
वो इतिहास जो
मेरे साथ गुजरा था
रोज दो चार मुझ जैसी
मौत के मुंह में जाकर
या फिर
मौत सी यंत्रणा में
जीने को मजबूर हैं।
वे तो अभी दण्ड के लिए
एकमत भी नहीं है ,
और हो भी नहीं पायेंगे .
क्यों?
इसलिए की उनके अन्दर भी
वही पुरुष जी रहा है,
क्या पता
कल वही अपने अन्दर के
नराधम से हार जाएँ ?
और वह भी
कटघरे में खड़े होकर
उस दण्ड के भागीदार न हों।
अभी महीनों वे
ऐसे अवरोधों के चलते
और ताकतवर होते रहेंगे।
अब मैं नहीं तो क्या ?
हर लड़की इस धरती पर
महाकाली बनकर जन्म लेगी
और इन रक्तबीजों के
लहू से खप्पर भरकर
बता देंगी कि
अब वे द्रोपदी बनकर
कृष्ण को नहीं पुकारेंगी।
खुद महाकाली बनकर
सर्वनाश करेंगी।
इन रक्तबीजों के मुंडों की माला
पहन कर जब निकलेगी
तो ये नराधम
थर-थर कांपते हुए
सामने न आयेंगे .
हमें किसी दण्ड या न्याय की
दरकार होगी ही नहीं,
वे सक्षम होंगी
और समर्थ होंगी।
ये साबित कर देंगी।
ये साबित कर देंगी।

11 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

मुर्दों में प्राण फूँकती अच्छी रचना!

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

प्रभावी !!
जारी रहें।

शुभकामना !!

आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़ )

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

न्याय करनेवाले?
कहीं नहीं कोई .आप कह रही हैं वही होना है!

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (09-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | अवश्य पधारें |
सूचनार्थ |

निहार रंजन ने कहा…

इसी की ज़रुरत है...सुन्दर रचना.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आमीन .... ऐसा ही हो ।

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

न्याय होगा ???
आज का ये ज्वलंत प्रश्न है

अरूण साथी ने कहा…

aakros/////sarthak rachna

Anita (अनिता) ने कहा…

आमीन!
काश! ऐसा ही हो !
बस! यही जज़्बा चाहिए, यही आग चाहिए ... हर नारी के भीतर की यही आवाज़ है !
~सादर!!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 10 -01 -2013 को यहाँ भी है

....
सड़कों पर आन्दोलन सही पर देहरी के भीतर भी झांकें.... आज की हलचल में.... संगीता स्वरूप. .

Amrita Tanmay ने कहा…

जय हो..