शुक्रवार, 10 अगस्त 2012

हाइकू !

राजनीति में

मुखौटा पहने हैं

नीचे झाँका क्या?

*********

संसद में हों

संविधान जेब में

स्वयंभू वे  हैं .

***********

जुबां फिसली

जीभ में हड्डी कहाँ

कुछ भी बोलो?

**********

मेहनत से

काम करो तो चोरी

हक ही होगा .

**********

बच्ची मिली है

सड़क के किनारे

क्रूर कौन है?

*********

उपदेश तो

औरों के लिए होते

घर में नहीं.

**********

आँसू न रुके

शक्ल बेटी की देख

श्राद्ध कैसे हो?

**********

पत्थर पूजे

सोचा बेटा ही होगा

बेटी निकली.

**********

मूर्ति गढ़ी है

इतिहास के लिए

तोड़ो न इन्हें.

************

कुर्सी पे बैठ

क्यों बौरा जाते है वे

जमीं न भूलो. .

************



8 टिप्‍पणियां:

Shanti Garg ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन और प्रभावपूर्ण रचना....
जन्माष्टमी पर्व की शुभकामनाएँ
मेरे ब्लॉग

जीवन विचार
पर आपका हार्दिक स्वागत है।

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

bahut khub ...padhne mein acche lage sabhi हाइकू


दीदी मुझे भी सिखने हैं हाइकू :)))

रविकर फैजाबादी ने कहा…

बहुत बढ़िया |
बधाई ||

RITU ने कहा…

ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ
!!!!!! हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे !!!!!!
!!!!!!!!!! हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे !!!!!!!!!
ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभ-कामनाएं

Asha Saxena ने कहा…

बहुत बढ़िया हाइकू |संक्षेप में बहुत कुछ कह जाते हैं |
आशा

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

अंजू, इस विधा में मेरी गुरु संगीता स्वरूप ही है , उनसे मिलो दिशा दे देंगी.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

संसद में हों

संविधान जेब में

स्वयंभू हैं .

रेखा जी ,

आप स्वयं ही बहुत अच्छे हाइकु लिखती हैं ... बस ऊपर वाले में एक परिवर्तन ---अंतिम पंक्ति में चार वर्ण ही बन रहे हैं ...

संसद में हों

संविधान जेब में

स्वयंभू बने ।

Sanju ने कहा…

Very nice post.....
Aabhar!
Mere blog pr padhare.

***HAPPY INDEPENDENCE DAY***