बुधवार, 2 जून 2010

लिखा नहीं जाता !

गीत और ग़ज़ल लिखे नहीं जाते
लिख जाते हैं,
कौन सा पल, 
कौन का निमिष ,
मन के दर्पण पर
छोड़ दे एक लीक
और मन
भावों की लड़ियाँ, 
अक्षरों के मोती पिरोकर
शब्दों के हार 
बनाने लगता है.
जब सब ख़त्म हो जाएँ
तब उठाकर देखो
कुछ न कुछ
अंतर्वेदना हो या उल्लास
एक रचना बन जाती है.
विरह हो या श्रृंगार 
सब कुछ
समाकर अपने में
मन को शांत कर जाती है. 
और मन एक कोरा कागज़ सा फिर
खोजने लगता है 
किसी नयी रचना के लिए
कोई नया भोगा हुआ यथार्थ.

15 टिप्‍पणियां:

sangeeta swarup ने कहा…

और मन एक कोरा कागज़ सा फिर
खोजने लगता है
किसी नयी रचना के लिए
कोई नया भोगा हुआ यथार्थ.

एक सत्य लिख दिया है....हर सृजन में वेदना होती है कहीं ना कहीं...और यथार्थ से जुडी हो तो मन को छू जाती है ...अच्छी अभिव्यक्ति

shikha varshney ने कहा…

कुछ न कुछ
अंतर्वेदना हो या उल्लास
एक रचना बन जाती है.
विरह हो या श्रृंगार
सब कुछ
समाकर अपने में
मन को शांत कर जाती है.
और मन एक कोरा कागज़ सा फिर
खोजने लगता है
किसी नयी रचना के लिए
कोई नया भोगा हुआ यथार्थ.

कितनी सच्ची बात कह दी आपने ..शायद ऐसे ही हर रचना का जन्म होता है.बहुत अच्छा लिखा है.

rashmi ravija ने कहा…

और मन एक कोरा कागज़ सा फिर
खोजने लगता है
किसी नयी रचना के लिए
कोई नया भोगा हुआ यथार्थ

एक रचनाकार के मन की परतें खोल कर रख दी हैं आपने....बिलकुल सटीक रचना

sanu shukla ने कहा…

एकदम सत्य है जी...

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

satya vachan.........pata hi nahi,kab mann shabdo ko jor kar ek kavita bana deta.......aur koshish karo to kabhi safal nahi ho pate....achchhi rachna!!


aapka wait kar raha hai mera blog:P

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

संगीता, शिखा , रश्मि,

ये बिल्कुल सच है कि हम ऐसे ही बैठ जाएँ कलम लेकर तो घंटों नहीं लिख पाते लेकिन कहीं कुछ चुभा तो फिर न हाथ रुकते हैं और न कलम.

शारदा अरोरा ने कहा…

बहुत सही लिखा है , गीत ग़ज़ल लिखे नहीं जाते खुद ब खुद उतर आते हैं कागज़ पर ...

दिलीप ने कहा…

bilkul sach...vichaaron ke badal ghumadte hain...fir kuch boondein kagaz pe barasti hai...sundar rachna

माधव ने कहा…

touching

रश्मि प्रभा... ने कहा…

गीत और ग़ज़ल खुद शक्ल ले लेते हैं....वाह

Udan Tashtari ने कहा…

बिल्कुल सही कहा...लिखा नहीं जाता, लिख जाता है!!

बहुत सुन्दर रचना.

शोभना चौरे ने कहा…

antrvedna se hi srjan hota hai .
sundar abhivykti.

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

दिल के दर्द ने साहित्य को बहुत कुछ दिया है ,,जो अतुलनीय है ,,हमारा भी आधार यही है :(

Shekhar Kumawat ने कहा…

satya wachan

nilesh mathur ने कहा…

सृजन का राज बता दिया आपने तो, बहुत ही सुन्दर!