शुक्रवार, 6 मार्च 2009

होली आई रे!

होली के रंग,
खेलें अपनों के संग
पी के मस्ती की भंग ,
नाचें ले के तरंग
कर लो सबको तुम तंग ,
यह है होली का ढंग .
डालो रे रंग ही रंग , ......
हंसी, ठिठोली कर
ऐसा नाचो गाओ
मारे ठहाके
हों जिनके दिल तंग,
नाचो और नचाओ
गीत गाकर शोर मचाओ
होली आई रे
होली आई रे
तुम खूब धूम मचाओ
होली है .सब मिलकर मौज मनाओ
रंजिश हर दिल की मिटाओ
सब से प्रेम से मिल जाओ
और गीत प्रेम के गाओ
इसी धूम के साथ हमारी
होली की शुभकामनाएं.........

10 टिप्‍पणियां:

Mired Mirage ने कहा…

आपको भी होली की शुभकामनाएँ !
घुघूती बासूती

Vibha Rani ने कहा…

achchha laga fir se bahut dinon ke bad aapako dekh kar. holii kii shubhkamanayen nahin doongi, rang aur gulaal lagaauungi, itanaa ki hafto tak naa chhoote.

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन होली गीत-पर्व विशेष की शुभकामनाऐं.

pankaj vyas ने कहा…

aapki rachana pasand aayi.

ise ratlam,jhabua(M.P.), Dahod(gujarat) se prakashit Dainik Prasaran me prakashit karane ja rahan hoo.

kripyaya, aap apana postal address send karen, taki prati post ki ja saken.

pan_vya@yahoo.co.in

SUNIL KUMAR SONU ने कहा…

aapko holi ki bahut-bahut shubhkamnaen.holi geet bahut sundar hai

P.N. Subramanian ने कहा…

बहुत ही सुन्दर होली गीत. ढेर सारी शुभकामनायें.

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

सुन्दर होली गीत
आपको भी होली पर्व की शुभकामना .

प्रेमलता पांडे ने कहा…

होली की शुभकामनाएँ!

संगीता पुरी ने कहा…

आपको भी होली की शुभकामनाएं।

neeshoo ने कहा…

होली की हार्दिक बधाई.....................