बुधवार, 3 नवंबर 2010

                     
         सुंदर दीपों से रोशन हो, हर कोना सबके घर का.
         लक्ष्मी करें कृपा सभी पर,  ढेर रहे घर में धन का,
         मन में सुख शांति हो,  हर  प्रात हो सबके मन का,
          हर दिन हो दीवाली जैसा सुन्दर सबके इस जीवन का.

      दीपावली पर मेरी हार्दिक शुभकामनाएं.!

9 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

दीपावली पर हार्दिक शुभकामनाएं

ashish ने कहा…

आपको और आपके परिवार को प्रकाश पर्व की शुभकामनाये ..

तिलक राज कपूर ने कहा…

बहुत सुन्‍दर रचना।

हमने हर इक रात काटी गीत गाकर
जिन्‍दगी की पीर पी है मुस्‍कराकर
आईये उत्‍सव ये दीपों का मनायें
तिमिर में इक दीप आशा का जलाकर।

और इस दीप पर एक ग़़ज़ल दिनांक 4 नवम्‍बर को 'रास्‍ते की धूल' पर पढ़ना न भूलें।

मनोज कुमार ने कहा…

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!
चिरागों से चिरागों में रोशनी भर दो,
हरेक के जीवन में हंसी-ख़ुशी भर दो।
अबके दीवाली पर हो रौशन जहां सारा
प्रेम-सद्भाव से सबकी ज़िन्दगी भर दो
बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
राजभाषा हिंदी पर कविताओं में बिंब और उनसे जुड़ी संवेदना
मनोज पर देसिल बयना –बाघ के घर की बिल्ली भी तेज़.

संजय भास्कर ने कहा…

आपको और आपके परिवार को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

rekha di aur unke pariwar ko dipawali ki bahut bahut subhkamnayen..........:)

दिगम्बर नासवा ने कहा…

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ....

निर्मला कपिला ने कहा…

आपको भी सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

देर से ही सही ...बहुत बहुत शुभकामनाएँ